Ambikapur News : सरगुजा संभाग मुख्यालय अंबिकापुर में अमृत मिशन योजना के तहत श्याम घुनघुट्टा जलाशय से पानी लाने, बांकी जलाशय के इंटकवेल की सफाई के नाम पर पैसा फूंके जाने के बावजूद निगम प्रशासन दोनों पाली में पानी देने में नाकाम हो रहा है. पानी की तरह पैसा बहाने के बावजूद अम्बिकापुर शहर की बड़ी आबादी अभी भी जल संकट से जूझ रही है. शहर के अधिकांश इलाकों में दूसरी पाली में पानी की सप्लाई नहीं होने के चलते लोग परेशान हो रहे हैं.

अंबिकापुर में पेयजल का संकट

नागरिकों का कहना है कि पेयजल जैसी अति आवश्यक सेवा को भी सुचारू रख पाने में नाकाम हो रहे हैं. शहर के प्रमुख रिहायशी इलाकों में जल संकट से जूझ रहे लोगों को निगम द्वारा टैंकर के माध्यम से पानी सप्लाई की जा रही है. मगर यह सेवा भी क्षमता के अनुरूप नहीं मिलने से लोगों की परेशानी दूर नहीं हो रही है. नागरिकों का कहना है कि सुबह प्रथम पाली में पानी की सप्लाई लगभग आधे घंटे तक पूरी क्षमता के साथ होती है. इसके बाद पानी की गति धीमी कर दी जाती है. बिजली बाधा अथवा अन्य कारणों से सुबह की पाली में पानी भर पाने से वंचित रहने वाले लोग दूसरी पाली का इंतजार करते है मगर दूसरी पाली में कभी पांच तो कभी दस मिनट पानी आने के चलते लोग स्वयं को ठगा सा महसूस करते हैं.

सप्लाई से पाली नहीं मिल पाने पर जब टैंकर की मांग की जाती है तो टैंकर आने में भी काफी विलंब होता है. अम्बिकापुर शहर के रिंग रोड नमनाकला, जोड़ा पीपल, देवीगंज मार्ग, ब्रम्ह मंदिर चौराहा, सत्तीपारा, बाबूपारा अटल-आवास, परसापाली सहित अन्य इलाकों में भी इस तरह की समस्या देखने को मिल रही है. नागरिकों का कहना है कि इस संबंध में नगर निगम के अधिकारियों को अवगत कराने के बाद भी पानी सप्लाई की व्यवस्था को सुधारने के प्रति रुचि नहीं ली जा रही है. जिसका खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ रहा है.

ये खबर भी पढ़े-   किसानों के लिए बड़ी खुशखबरी! सरकार कर सकती है बड़ा ऐलान…

बिगड़े हैंडपंपों का भी नहीं हो रहा मरम्मत

गौरतलब है कि अंबिकापुर नगर निगम क्षेत्र में पेयजल के लिए पुरानी व्यवस्था बांकी जलाशय, तकिया फिल्टर प्लांट है जबकि अमृत मिशन योजना के तहत श्याम घुनघुनट्टा जलाशय से पाइप लाइन विस्तार करते हुए कतकालो में नया फिल्टर प्लांट बना कर भी पानी लाया गया है. निगम प्रशासन द्वारा यह दावा किया जा रहा था कि शहर में लंबे समय तक के लिए अब पानी की समस्या दूर हो गई है, मगर इसके बेहतर क्रियान्वयन का अभाव और अनदेखी के चलते अभी भी शहर के कई इलाकों में पानी की समस्या बनी रहती है.

शहर के कई इलाकों में हैंडपंप स्थापित किए गए है. पाइपलाइन से पानी नहीं आने पर यह हैंडपंप लोगों के लिए बड़ा सहारा बनते थे, मगर शहर के अधिकांश इलाकों के हैंडपंप मरम्मत और देखरेख के अभाव में खराब हो शो पीस बने हुए है. जिसके चलते लोगों की परेशानी और बढ़ रही है. कई हैंडपंपों में लोगों के द्वारा मशीन डाल कब्जा कर लिया गया है. जिसके चलते भी जहां हैंडपंप सही है. उसका भी लोग उपयोग नहीं कर पा रहे हैं.

पानी की गंभीर समस्या कहीं नहीं

निगम के एमआईसी सदस्य और जल शाखा प्रभारी द्वितेंद्र मिश्रा ने बताया कि शहर में पानी की गंभीर समस्या जैसी स्थिति कहीं नहीं है. बिजली बाधा के चलते कई बार टंकी नहीं भर पानी की स्थिति में कभी-कभी कुछ इलाकों में ही ऐसी समस्या बनती है. उन्होंने कहा कि आगामी गर्मी के मौसम को देखते हुए पेयजल की व्यवस्था को और दुरुस्त किया जाएगा. इसके लिए तकनीकी और मैदानी अमले की बैठक ली जाएगी. तकिया, कतकालो फिल्टर प्लांट का भी निरीक्षण किया जाएगा.

ये खबर भी पढ़े-   राजिम कुंभ कल्प की शुरूआत आज से

Ambikapur News: अंबिकापुर में जल संकट से जूझ रहे हैं लोग