#INSVisakhapatnam
#INSVisakhapatnam

नई दिल्ली : अदन की खाड़ी में एमवी मार्लिन लुआंडा पर हमले की खबर मिलने के फौरन बाद भारतीय नौसेना ने ऐक्‍शन ल‍िया। समंदर में म‍िशन पर तैनात इंडियन नेवी के आईएनएस विशाखापत्तनम को इसके बारे जानकारी म‍िली थी। यह मिसाइल गाइडेड ड‍िस्‍ट्रॉयर है। भारतीय नौसेना के अनुसार, एमवी में 22 भारतीय और 1 बांग्लादेशी चालक दल सवार है।

एमवी मर्लिन लुआंडा के अनुरोध पर आईएनएस विशाखापत्तनम ने संकटग्रस्त एमवी मर्लिन लुआंडा पर चालक दल को सहायता देने के लिए अग्निशमन उपकरणों के साथ व‍िशेष टीम भेजी है। भारतीय नौसेना के प्रवक्ता ने इस बारे में सोशल मीडिया प्‍लेटफॉर्म ‘एक्स’ पर जानकारी दी है। इसके अनुसार, भारतीय नौसेना समंदर में सुरक्षा सुनिश्चित करने के ल‍िए प्रतिबद्ध है।

26 जनवरी की रात म‍िली सूचना

एक्स पर एक पोस्ट में भारतीय नौसेना के प्रवक्ता ने कहा, ‘अदन की खाड़ी में तैनात भारतीय नौसेना के गाइडेड मिसाइल विध्वंसक आईएनएस विशाखापत्तनम ने 26 जनवरी की रात को एमवी मार्लिन लुआंडा से एक ड‍िस्‍ट्रेस कॉल का जवाब दिया। संकटग्रस्त जहाज पर अग्निशमन के प्रयास किए जा रहे हैं। चालक दल की सहायता के लिए आईएनएस विशाखापत्तनम को तैनात किया गया है। एमवी में 22 भारतीय और 1 बांग्लादेशी चालक दल हैं। भारतीय नौसेना एमवी की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है।’

हूती विद्रोहियों ने कहर बरपा रखा है

इस बीच यूएस सेंट्रल कमांड ने कहा कि हूती विद्रोहियों ने यमन के क्षेत्रों से एक एंटी-शिप बैलिस्टिक मिसाइल दागी और मार्शल आइलैंड्स ध्वज लगे तेल टैंकर एम/वी मार्लिन लुआंडा को मार गिराया। एक्स पर एक पोस्ट में यूएस सेंट्रल कमांड ने कहा, ‘हूती अदन की खाड़ी में सक्रिय हैं। 26 जनवरी को लगभग 7:45 बजे (सना समय) ईरानी समर्थित विद्रोहियों ने गोलीबारी की।’

ये खबर भी पढ़े-   LokSabha Elections 2024: 11 सीटें जीतने BJP का टारगेट सेट.. हर मंडल में बड़े-छोटे नेताओं को करना होगा ये काम

इसमें कहा गया है, ‘जहाज ने एक ड‍िस्‍ट्रेस कॉल जारी की और नुकसान की सूचना दी। यूएसएस कार्नी (डीडीजी 64) और अन्य गठबंधन जहाजों ने प्रतिक्रिया दी है और सहायता प्रदान कर रहे हैं। इस समय किसी के घायल होने की सूचना नहीं है।’

इस महीने की शुरुआत में भारतीय नौसेना के मिशन पर तैनात गाइडेड मिसाइल विध्वंसक आईएनएस विशाखापत्तनम ने 17 जनवरी की रात को ड्रोन हमले के बाद एमवी जेनको पिकार्डी से एक संकट कॉल पर ऐक्‍शन लिया था। आईएनएस विशाखापत्तनम वर्तमान में समुद्री डकैती रोधी अभियान पर है। अदन की खाड़ी में मिशन ने संकट कॉल को तुरंत स्वीकार कर लिया। तत्काल सहायता प्रदान करने के लिए विध्वंसक ने 18 जनवरी, 2024 की मध्यरात्रि में जहाजों को रोक दिया।

British तेल टैंकर पर हूती का हमला, मदद के लिए भारतीय नौसेना INS विशाखापत्तनम ने उठाया ये कदम