ED took the name of CM Bhupesh
ED took the name of CM Bhupesh

Chhattisgarh News: प्रवर्तन निदेशालय (ED) की चार्जशीट में नाम आने के बाद छत्तीसगढ़ के पूर्व सीएम भूपेश बघेल की प्रतिक्रिया सामने आई है. उन्होंने इसे पूरी तरह से राजनीतिक षड्यंत्र का हिस्सा बताना. बता दें कि महादेव बेटिंग एप मामले में नाम आने के बाद पूर्व सीएम की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. बघेल ने आरोप लगाया कि दबाव डालकर उनके और उनके सहयोगियों के खिलाफ ईडी बयान दिलवा रही है.

ALSO READ- BSF जवानों से भरी गाड़ी पलटी, 17 घायल, 4 जवानों की हालत गंभीर

भूपेश बघेल ने एक्स पर लिखा, “प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने अपने सप्लीमेंट्री चार्जशीट में जिस तरह से मेरा नाम लिखा है, वह पूरी तरह से राजनीतिक षड्यंत्र का हिस्सा है. ईडी अपने राजनीतिक आकाओं के इशारे पर कूटरचना कर लोगों को गिरफ़्तार कर रही है और उनसे दबावपूर्वक मेरे और मेरे सहयोगियों के ख़िलाफ़ बयान दिलवा रही है. इन बयानों में जो पैसों के लेनदेन के आरोप लगाए गए हैं उनका कोई आधार नहीं है.”

पूर्व सीएम ने कहा, “जिस असीम दास के पास से रुपए बरामद हुए थे उसने जेल से अपने हस्तलिखित बयान में कह दिया है कि उन्हें भी धोखे में रखकर फंसाया गया है और उन्होंने कभी किसी राजनेता व उनसे जुड़े लोगों को पैसा नहीं पहुंचाया. अब ईडी दावा कर रही है कि उसने यह बयान भी वापस ले लिया है. यह किस दबाव में हो रहा है, उसे सब जानते हैं.”

ये खबर भी पढ़े-   Kasganj Tractor Trolley Accident: 22 लोगों की मौत....जिले में बड़ा हादसा, ट्रैक्टर-ट्रॉली के तालाब में पलटने से 22 लोगों की मौत

उन्होंने आगे लिखा, “अब सवाल यह है कि ईडी ने जिस दिन कथित रूप से असीम दास से रुपए बरामद किए थे उस घटना की पूरी रिकॉर्डिंग ईडी के पास है. इसका मतलब है कि पूरी घटना पूर्व नियोजित थी और इसका मतलब यही है कि इसकी कूटरचना ईडी ने ही की थी. ईडी ने दावा किया है कि चंद्रभूषण वर्मा ने भी अपना पहले का बयान वापस ले लिया है. हम तो शुरुआत से कह रहे हैं कि ईडी मारपीट से लेकर धमकी देने तक हर हथकंडे अपनाकर मेरा व मेरे सहयोगियों का नाम लेने का दबाव बना रही है. ईडी के नए दस्तावेज से यह और स्पष्ट हो गया है.”

भूपेश बघेल ने ये भी कहा, “महादेव ऐप के घोटाले की जांच मैंने ही मुख्यमंत्री रहते हुए खुद शुरू की थी. मैं चाहता था कि इस पूरे गिरोह का भंडाफोड़ हो और युवाओं को जुआखोरी की ओर धकेल रहे इस अपराध पर रोक लगे. छत्तीसगढ़ सरकार की इस जांच के आधार पर ही ईडी धन-शोधन का मामला बनाकर जांच कर रही है लेकिन दुर्भाग्य है कि ईडी ने जांच को अपराध की बजाय राजनीतिक दबाव व बदनामी का हथियार बना लिया है. महादेव ऐप के पूरे मामले को जिस तरह से राजनीतिक रंग दिया गया है उससे साफ है कि इसका उद्देश्य अब असली अपराधियों को बचाने और राजनीतिक दुष्प्रचार कर भाजपा को फायदा पहुंचाने का ही रह गया है.”

Panchayat Suspended: PM आवास योजना का हाल बेहाल, लापरवाही बरतने पर CEO ने 8 पंचायतों को किया निलंबित

ED ने अपनी सप्लीमेंट्री चार्जशीट में पूर्व CM भूपेश के नाम का किया जिक्र: पूर्व CM भूपेश बघेल की मुश्किल बड़ी …! बघेल ने बयान जारी कर क्या कहा? पढ़िए पूरी खबर

ये खबर भी पढ़े-   किसानों के लिए बड़ी खुशखबरी! सरकार कर सकती है बड़ा ऐलान…