Chhattisgarh Ambulance
Chhattisgarh Ambulance

CG में एंबुलेंस नहीं आई समय पर : गरियाबंद। जिले में सड़क सुरक्षा सप्ताह चल रहा है, इसी दरमियान बुधवार को झाखरपारा केंदुबन मार्ग पर दो बाइक की जोरदार भिड़त हो गई. इस दुर्घटना में तीन लोग घायल हो गए थे, लेकिन इनमे से एक घायल की इलाज के दौरान मौत हो गई. इस मौत के बाद अब स्वास्थ्य सेवाओं पर सवाल खड़ा हो गया है.

एक जनपद सदस्य ने एम्बुलेंस की लेट लतीफी की वजह से युवक की जान जाने का आरोप लगाया है, उनका कहना है कि, स्वास्थ्य विभाग की संकल्प यात्रा में स्वास्थ्य विभाग द्वारा एंबुलेंस सामान ढोने के लिए लगाया था. अगर उसे लेने समय पर एम्बुलेंस घटना स्थल पर पहुंचती तो उसकी जान बच सकती थी.

जनपद सदस्य आसलम मेमन ने कहा की समय पर घायल को उपचार मिलता तो बच जाता. मामले की विस्तृत जानकारी देते हुए असलम मेमन ने बताया कि, घटना लगभग 2 बजे हुई. सूचना मिलते ही मौके पर पहुंच सबसे पहले 108 को कॉल किया गया, बाहर होने की स्थिति में स्वास्थ्य विभाग में मौजूद अन्य सुविधाओं के लिए बीएमओ सुनील रेड्डी को कॉल किया गया. लेकिन उनके द्वारा कॉल रिसीव नहीं करने पर अस्पताल के अन्य स्टाफ से मदद मांगी गई.

इस बीच जिन दो घायलों को ले जाने की व्यवस्था बनी उन्हें देवभोग अस्पताल तक पंहूचाया गया. लेकिन भतरू की हालत गंभीर होते जा रही थी, इस दौरान करीब दो घंटे बाद एंबुलेंस घटना स्थल पर पहूंची. जिसके बाद उसे भी देवभोग अस्पताल ले जाया गया जहां प्रारंभिक उपचार के बाद गंभीर हालत को देखते हुए उसे भवानीपटना रेफर कर दिया गया था, जहां बुधवार देर रात उसकी मौत हो गई.

ये खबर भी पढ़े-   Loksabha Chunav 2024: BJP के इस प्रत्‍याशी ने चुनाव लड़ने से किया इनकार: जाने...कौन है वो नेता, कल हुई थी नाम की घोषणा

वहीं मामले में बीएमओ सुनील रेड्डी ने कहा कि, जिस वक्त कॉल आया उस समय वे अन्य सरकारी कार्य में थे, लेकिन अन्य स्टाफ से कॉर्डिनेट कर वाहन उपलब्ध कराया गया था.

108 एंबुलेंस गरियाबंद पेसेंट लेकर आई थी, वहीं सुपेबेड़ा का एंबुलेंस भी पेसेन्ट लेकर गया था. चूंकि संकल्प शिविर में भी वीआईपी और अन्य लोगो की भिड़ होती है, झाखरपारा एंबुलेंस को वही ड्यूटी में लगाया गया था.

CG में एंबुलेंस नहीं आई समय पर: दुर्घटना के बाद तड़पता रहा युवक हुई मौत, स्वास्थ्य विभाग के कार्यक्रम में सामान ढोने गई थी एंबुलेंस